10/05/2013

सीरिया का हल निकालने पर सहमति

सुनिए /

सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र और अरब लीग के विशेष दूत लख़दर ब्राहमी ने सीरिया संकट का हल निकालने के अमरीका और रूस के मिलकर प्रयास करने के बयान का स्वागत किया है.

इन दोनों देशों ने कहा है कि वो सीरिया संकट का कोई राजनीतिक समाधान निकालने लिए एक साथ मिलकर काम करेंगे.

सीरिया संकट को दो वर्ष पूरे हो चुके हैं और इस हिंसा में 70 हज़ार से ज़्यादा लोगों की जान जा चुकी है.

अमरीका और रूस सीरिया संकट का हल निकालने के लिए एक अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन भी आयोजित करने पर सहमत हुए हैं.

इन दोनों देशों ने कहा है कि सीरिया सरकार और विपक्ष दोनों ही पक्षों को बातचीत करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा.

अमरीका के विदेश मन्त्री जॉन कैरी और रूस के विदेश मन्त्री सर्गेई लैवरॉफ़ के बीच मॉस्को में हुई बातचीत के बाद ये सहमति बनी है.

संयुक्त राष्ट्र और अरब लीग के विशेष दूत लख़दर ब्राहमी ने कहा कि बेशक ये पहला क़दम है लेकिन लम्बे समय से संकट में फँसे सीरिया के लिए उम्मीद भरा क़दम भी हो सकता है.

लख़दर ब्राहमी लम्बे समय से अमरीका और रूस से आग्रह करते रहे हैं कि वो अपना प्रभावशाली नेतृत्व दिखाएँ और 30 जून 2012 को हुए जिनेवा घोषणा पत्र को लागू करने के लिए काम करें.

लख़दर ब्राहमी ने उम्मीद जताते हुए कहा कि अब सुरक्षा परिषद के बाक़ी सदस्य ही नहीं बल्कि पूरी सुरक्षा परिषद ही एकजुट होकर सीरिया में शान्ति बहाल करने की दिशा में काम करेगी और इसमें संयुक्त राष्ट्र महासचिव का सहयोग भी लिया जाएगा, साथ ही इस प्रक्रिया में सीरियाई लोगों की इच्छाओं का ध्यान रखा जाएगा.

ये भी महत्वपूर्ण है कि सीरिया के आसपास के देश भी शान्ति प्रक्रिया को समर्थन और सहयोग दे.

संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि सीरिया में मौजूदा संकट की वजह से लगभग 70 लाख लोगों को तुरन्त मानवीय सहायता की ज़रूरत है. इसमें लगभग आधी संख्या बच्चों की है.