26/04/2013

पोलियो जड़ से मिटाना ही मक़सद है

सुनिए /

दुनिया भर में पोलियो उन्मूलन के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूनीसेफ़ ने नई छह वर्षीय योजना बनाई है. इस योजना में पोलियो उन्मूलन की दवाई पिलाने वाले कार्यक्रम बढ़ाने का आहवान किया गया है. ख़ासतौर से अफ़ग़ानिस्तान, पाकिस्तान और नाईजीरिया में पोलियो अब भी एक गम्भीर ख़तरा बना हुआ है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूनीसेफ़ का कहना है कि पोलियो उन्मूलन योजना 2013 2018 पर अमल करने के लिए साढ़े पाँच अरब डॉलर की ज़रूरत होगी. इसमें से वैश्विक पोलियो उन्मूलन भागीदारों और दानदाताओं ने चार अरब डॉलर की राशि देने का पहले ही वादा कर लिया है.

इस तरह डेढ़ अरब डॉलर और जुटाने होंगे. संयुक्त अरब अमीरात के शहर अबू धाबी में बीते सप्ताह सम्पन्न हुए विश्व वैक्सीन सम्मेलन में भाग लेने वाले विश्व नेताओं ने इस नई योजना में भरोसा जताते हुए इसके कामयाब होने की उम्मीद जताई जिसके बाद पोलियो को दुनिया से बिल्कुल मिटा दिया जाएगा.

विश्व पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम की प्रवक्ता सोना बारी का कहना था, "पिछले दो वर्षों के दौरान हुई प्रगति की बदौलत ये योजना बनाई जा सकी है. भारत पोलियो मुक्त बन चुका है जोकि बड़ी कामयाबी है क्योंकि ये समझा जा रहा था कि भारत में पोलियो को मिटाना बहुत मुश्किल काम है."

"हमें ऐतिहासिक सन्दर्भ में देखना होगा कि 25 वर्ष पहले कितने बच्चे पोलियो का शिकार होते थे. ये संख्या कम से कम साढ़े तीन लाख तो होती ही थी. इस वर्ष सिर्फ़ 19 बच्चे पोलियो से प्रभावित हुए पाए गए हैं, ये एक असाधारण कामयाबी है. हालाँकि, पोलियो उन्मूलन के मामले में हमें बिल्कुल शून्य का आँकड़ा छूना है यानी कोई भी बच्चा पोलियो का शिकार नहीं होना चाहिए. इसलिए हमें अगले दो वर्षों के दौरान कोशिश करनी है कि किसी भी बच्चे में पोलियो का वायरस ना फैले."

सोना बारी का कहना था किउसके बाद तीन वर्षों के दौरान हम निगरानी रखेंगे कि पोलियो का कहीं कोई नामो-निशान ना बचा रहे. और ये सुनिश्चित करना होगा कि पोलियो का पूरी तरह सफ़ाया कर दिया गया है."

पोलियो को एक बहुत ही ख़तरनाक और संक्रामक बीमारी माना जाता है जो किसी भी उम्र में मनुष्य पर हमला कर सकती है. लेकिन आमतौर पर पाँच वर्ष से कम उम्र के बच्चों को ज़्यादा प्रभावित करती है.

एक बार अगर ये बीमारी हो जाती है तो इसका कोई इलाज नहीं है लेकिन इसे होने से रोकने के लिए सुरक्षित और असरदार दवाएँ ज़रूर उपलब्ध हैं.