14/02/2014

सीरिया वार्ता में कोई प्रगति नहीं

सुनिए /

सीरिया में हिंसक गृहयुद्ध को रोकने और वहाँ शान्ति के साथ-साथ स्थिरता लाने के उद्देश्य से जारी बातचीत को रूस और अमरीका ने अपना समर्थन फिर दोहराया है.

सीरिया शान्ति वार्ता का दूसरा दौर जिनेवा में हुआ है जिसमें सीरियाई सरकार और विपक्षी दलों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया है. मगर इस बातचीत में कोई ख़ास प्रगति नहीं हुई है.

सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र और अरब लीग के संयुक्त दूत लख़दर ब्राहमी ने रूस के विदेश उपमंत्री गैन्नाडी गातीलोफ़ और विदेशी राजनीतिक मामलों की कनिष्ठ अमरीकी मंत्री वेंडी शेरमन से गुरूवार को मुलाक़ात की.

लख़दर ब्राहमी ने इस मुलाक़ात के बाद पत्रकारों से कहा कि रूस और अमरीका ने सीरिया शान्ति वार्ता के लिए अपना समर्थन दोहराया है.

इन दोनों देशों ने सीरिया में शान्ति स्थापना के लिए संयुक्त राष्ट्र के मंच के साथ-साथ अपनी राजधानियों और अन्य स्थानों पर भी प्रयास जारी रखने का भरोसा दिलाया है.

लख़दर ब्राहमी ने बताया कि अभी तक तो सीरिया शान्ति वार्ता में कोई सकारात्मक प्रगति नहीं हुई है.

ग़ौरतलब है कि रूस और अमरीका की पहल पर ही सीरिया शान्ति वार्ता जिनेवा में शुरू हुई है जिसका मक़सद हिंसक संघर्ष का कोई हल तलाश करना है.

सीरिया में मार्च 2011 में हुए हिंसक संघर्ष में सवा लाख से ज़्यादा लोगों की जान जा चुकी है और लाखों अन्य को अपने घर छोड़ने पड़े हैं.

इनमें से बहुत से सीरियाई तो देश में ही पनाह लिए हुए हैं, और अन्य लाखों को पड़ोसी देशों में जाकर पनाह लेनी पड़ी है.

रूस को सीरिया का निकट सहयोगी देश समझा जाता है जबकि अमरीका सीरिया के विपक्षी गुटों को समर्थन दे रहा है.