27/12/2013

दक्षिण सूडान में संकट से लाखों विस्थापित

सुनिए /

दुनिया के नवीनतम देश दक्षिणी सूडान में दिसम्बर के मध्य से शुरू हुए संकट के बाद लगभग सवा लाख लोग विस्थापित हो चुके हैं.

हालाँकि मानवीय सहायता कार्यक्रमों में तालमेल बिठाने वाले संयुक्त राष्ट्र कार्यालय – OCHA का कहना है कि विस्थापितों की संख्या बढ़ने की आशंका है क्योंकि स्थिति नाज़ुक बनी हुई है.

ओ सी एच ए का कहना है कि सहायता एजेंसियों के पास इन विस्थापित लोगों के बारे में ज़्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है जिससे सहायता कार्यों में रुकावट आ रही है.

मानवीय सहायता कार्यक्रमों में लगे लोगों का कहना है कि विस्थापितों को भोजन, चिकित्सा सुविधा, रहने के लिए छत वाले स्थान, पानी और साफ़-सफ़ाई सुनिश्चित करने वाली सेवाओं की सख़्त ज़रूरत है.

रिपोर्टों के अनुसार सहायता एजेंसियाँ जूबा, बेन्टियू, मलाकाल और एवेरियल क्षेत्रों में विस्थापितों की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए खाना पहुँचा रही हैं.

लेकिन हालात बहुत विस्फोटक और हिंसक होने की वजह से बहुत से स्थानों तक सहायता सामग्री नहीं पहुँचाई जा सकी है.

ओ सी एच ए की ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि चलने-फिरने वाले चिकित्सा क्लीनिक अनेक स्थानों पर सैकड़ों-हज़ारों लोगों को चेचक और पोलियो से सुरक्षा वाली दवाइयाँ उपलब्ध करा रहे हैं.

सहायता एजेंसियों ने अनेक प्रभावित लोगों में मच्छरदानियाँ, गद्दे, टंट और साबुन वग़ैरा वितरित किए हैं. साथ ही क़रीब 160 शौचालय भी बनाए गए हैं.

सहायता एजेंसियों ने अगले तीन महीनों के दौरान अपने सहायता प्रयास और तेज़ करने की योजना बनाई है ताकि प्रभावित लोगों को तुरन्त जीवन दायिनी सहायता मुहैया कराई जा सके.

लेकिन ऐसा करने के लिए इन सहायता एजेंसियों को दानदाताओं से लगभग साढ़े 16 करोड़ डॉलर की रक़म की ज़रूरत पड़ेगी.

Loading the player ...

कनेक्ट