20/12/2013

रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल मुद्दे पर रूस का सन्देह

सुनिए /

रूस ने सीरिया में रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल के पीछे की ताक़तों पर सन्देह जताया है.

संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत विताली चरकिन ने सोमवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि ये पता लगाया जाना बहुत ज़रूरी है कि सीरिया में गृहयुद्ध के दौरान रसायनिक हथियारों का इस्तेमाल किसने किया.

संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत विताली चरकिनसीरिया में रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल की जाँच करने वाली संयुक्त राष्ट्र की टीम ने सुरक्षा परिषद को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है.

इस रिपोर्ट के बारे में सुरक्षा परिषद को जानकारी दिए जाने के बाद रूसी राजदूत विताली चरकिन का ये बयान आया है.

उन्होंने कहा कि रूसी महासंघ ने सीरिया में रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल की जाँच करने वाली टीम की रिपोर्ट का सावधानी से अवलोकन किया है.

विताली चरकिन का कहना था, "सीरिया में रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल के पीछे कौन ताक़तें हैं, ये जानना बहुत ज़रूरी है. इस बारे में दो सम्भावनाएँ सामने हैं. रसायनिक हथियारों का इस्तेमाल या तो सीरियाई सरकार या फिर सीरियाई विपक्ष ने किया होगा.”

“अगर हम ये मान लें कि रसायनिक हथियारों का इस्तेमाल सीरियाई सरकार ने किया तो इस कहानी में अनेक विरोधाभास नज़र आते हैं. अगर ये मान लें कि 19 मार्च को अलेप्पो के निकट सरीन गैस का इस्तेमाल किया गया था तो इस इलाक़े के पास रहने वाले सैन्यकर्मी और आम लोग किस तरह उस हमले की चपेट में आ गए.”

उन्होंने कहा कि “ये भी अहम है कि सीरिया सरकार ने तुरन्त इस रसायनिक हमले की जाँच कराए जाने का अनुरोध क्यों किया. क्योंकि अगर सीरिया सरकार ने रसायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया तो वो ख़ुद इसकी जाँच कराने में दिलचस्पी क्यों दिखाएगी.”

“जो लोग या देश इन रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल का आरोप सीरिया सरकार पर लगाते हैं, उन्होंने सीरिया सरकार द्वारा अनुरोध की गई जाँच पड़ताल कराने में रोड़ा क्यों अटकाया या फिर देरी क्यों कराई, ये सभी पहलू बहुत अहम हैं."

संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत विताली चरकिन के शब्द. उन्होंने कहा कि सीरिया में 19 मार्च को अलेप्पो के निकटवर्ती क्षेत्र और 21 मार्च को गावटा में सरीन गैस के इस्तेमाल किए जाने के दो प्रमुख मामले सामने आए हैं जो बहुत गम्भीर और चिन्ताजनक हैं.

Loading the player ...

कनेक्ट