15/11/2013

सीरिया के लिए रक़म की सख़्त ज़रूरत

सुनिए /

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा है कि पर्याप्त धनराशि ना होने की वजह से सीरिया में मानवीय सहायता के कार्यों में बाधा आ रही है.

महासचिव ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को बताया कि सीरिया की लगभग आधी आबादी यानी क़रीब 90 लाख लोगों को मानवीय सहायता की तुरन्त ज़रूरत है.

उन्होंने कहा कि सीरिया में हालात तेज़ी से और बहुत ही नाटकीय तरीक़े से ख़राब होते जा रहे हैं, “हम अगले वर्ष जनवरी में एक उच्च स्तरीय सम्मेलन का आयोजन करेंगे जिसमें सीरिया के लिए मदद का संकल्प लिया जाएगा. लेकिन मैं ये बहुत सी स्पष्ट शब्दों में कहना चाहता हूँ कि सीरिया के लिए सहायता मुहैया कराने के वास्ते किसी को भी जनवरी तक इन्तज़ार करने की ज़रूरत नहीं है.”

“ये सहायता तुरन्त मुहैया कराई जा सकती है. सीरियाई लोगों को मदद की तुरन्त ज़रूरत है. जिन देशों ने इस वर्ष के संकल्प सम्मेलन में किए गए अपने वादों के अनुसार सहायता मुहैया कराई है, हम उनका शुक्रिया अदा करते हैं. बाक़ी देशों से अनुरोध भी करते हैं कि वो भी सीरिया को सहायता देने के अपने वादों को पूरा करें.”

महासिचव बान की मून ने कहा कि सीरिया के हालात अन्तरराष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा के लिए एक गम्भीर ख़तरा बने हुए हैं.

सीरिया को मानवीय सहायता मुहैया कराना संयुक्त राष्ट्र के त्रिकोणीय प्रयासों का एक हिस्सा है जो स्थिति में सुधार लाने के लिए बहुत निर्णायक हैं.

अन्य मोर्चों पर सीरिया के रसायनिक हथियारों को नष्ट किए जाने की प्रक्रिया की जाँच-पड़ताल कर रहे हैं, साथ ही सीरिया संकट का कोई राजनीतिक हल निकालने के प्रयास भी तेज़ी से जारी हैं.

Loading the player ...

कनेक्ट