11/10/2013

भूखे पेट लोगों की संख्या तीन करोड़ घटी

सुनिए /

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन –FAO ने कहा है कि कुपोषण में जीने वाले लोगों का स्वास्थ्य बेहतर हो रहा है और कुपोषित लोगों की संख्या कम हो रही है जो अथक प्रयासों की बदौलत सम्भव हो सका है.

विश्व खाद्य सुरक्षा कमेटी की रोम में हुई एक बैठक में आहवान किया गया कि अन्तरराष्ट्रीय नीतियाँ इस तरह से बनाई जाएँ ताकि दुनिया भर में नाज़ुक हालात में रहने वाले लोगों को फ़ायदा पहुँच सके.

दुनिया भर में खाद्य सुरक्षा और पोषण मुहैया कराने के मामलों में ये समिति बहुत प्रभावशाली संस्था है.

खाद्य और कृषि संगठन के डायरेक्टर जनरल यानी महानिदेशक होज़े ग्रेज़ियानो डी सिल्वा ने कुपोषण से मुक्ति पाने वाले लोगों की संख्या के बारे में ताज़ा आँकड़े जारी करते हुए कहा, “ताज़ा आँकड़े बताते हैं कि दुनिया भर में कुपोषण के शिकार लोगों की संख्या में इस वर्ष क़रीब तीन करोड़ की कमी आई है यानी इतने लोगों को अब अच्छे स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी भोजन मिल रहा है.”

“तीन करोड़ की ये संख्या पिछले साल के मुक़ाबले कम हुई है. सहस्राब्दि विकास लक्ष्यों यानी MDG में लक्ष्य रखा गया है कि दुनिया भर में कुपोषण के शिकार लोगों की कम से कम आधी सख्या को इस गर्त से 2015 तक निकाल देना है.”

उन्होंने कहा कि ताज़ा आँकड़े बताते हैं कि विकासशील देशों में भी भूखे पेट रहने वाले लोगों की संख्या 24 प्रतिशत से घटकर 14 प्रतिशत पर आ गई है यानी इन लोगों को भरपेट खाना मिलने लगा है.

उनका ये भी कहना था कि लोगों को भरपेट भोजन मुहैया कराने और उन्हें कुपोषण से मुक्ति दिलाने की दिशा में असीम चुनौतियाँ भी दरपेश हैं.

लेकिन उनका ये भी कहना था कि अभी तक की कामयाबी और अनुभवों को आधार बनाते हुए भविष्य में भी कामयाबी हासिल की जा सकती है.

Loading the player ...

कनेक्ट