11/10/2013

जापानी एन्सेफ़लाइटिस के लिए नई दवा

सुनिए /

विश्व स्वास्थ्य संगठन – WHO ने जापानी एन्सेफ़लाइटिस बीमारी के इलाज के लिए एक और दवाई को मंज़ूरी दी है.

ये दवाई चीन में बनाई जाती है जिसे बच्चों में मच्छरों के काटने से होने वाली बीमारी – जापानी एन्सेफ़लाइटिस के इलाज के लिए कारगर समझा गया है.

ये बीमारी ऐसा वायरल इन्फ़ेक्शन यानी संक्रमण फैलाती है जिससे दिमाग़ में जलन पैदा हो जाती है.

जापानी एन्सेफ़लाइटिस एक गम्भीर बीमारी है जो चीन, रूस और दक्षिण एशियाई देशों में एक महामारी जैसी है.

इस बीमारी का अभी कोई निश्चित इलाज मौजूद नहीं है लेकिन अगर स्वीकृत दवाइयों का पहले से इस्तेमाल किया जाए तो इस बीमारी को होने से पहले ही रोका जा सकता है.

अगर सतर्क एहतियात बरती जाए तो इस बीमारी की वजह से होने वाली विकलांगता या मृत्यु के ख़तरे को भी रोका जा सकता है.

जिन बच्चों को इस बीमारी का ख़तरा हो सकता है उन्हें इसकी सिर्फ़ एक ही ख़ुराक काफ़ी है.

ये पहली ऐसी चीन निर्मित दवाई है जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंज़ूर किया है.

संगठन की महानिदेशक डॉक्टर मार्गरेट चैन का कहना था कि इस दवाई को मंज़ूरी मिलना ख़ासतौर से विकासशील देशों में बच्चों को इस बीमारी से बचाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कामयाबी है.

उन्होंने कहा कि भविष्य में ये दवाई भरपूर मात्रा में उपलब्ध रहेगी क्योंकि चीन इस दवाई का उत्पादन विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों के अनुसार कर रहा है.

डॉक्टर मार्गरेट चैन ने उम्मीद जताई कि आगे भी चीन द्वारा निर्मित और ज़्यादा दवाइयों को विश्व स्वास्थ्य संगठन की मंज़ूरी मिलती रहेगी.

Loading the player ...

कनेक्ट