20/09/2013

परमाणु सुरक्षा के उपायों में बेहतरी

सुनिए /

अन्तरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) ने कहा कि जापान के फुकूशीमा दाईची में 2011 में हुई परमाणु दुर्घटना के बाद दुनिया भर में परमाणु सुरक्षा के इंतज़ाम मज़बूत करने की दिशा में ठोस प्रगति हुई है.

आईएईए के अध्यक्ष यूकिया अमानो ने ऑस्ट्रिया की राजधानी वियेना में सोमवार को एजेंसी के वार्षिक सम्मेलन में ये बात कही.

सम्मेलन की शुरूआत करते हुए अमानो ने पिछले वर्ष एजेंसी के सामने पेश आई चुनौतियों और उपलब्धियों का ब्यौरा दिया.

उन्होंने कहा कि आईएईए विकासशील देशों को तकनीकी सहयोग के ज़रिए मदद देता है.

इस मदद में कैंसर नियंत्रण, खाद्य पदार्थों, कृषि और जल प्रबन्धन के क्षेत्रों में परमाणु तकनीक का इस्तेमाल करने वाले कार्यक्रमों के ज़रिए भी सहयोग किया जाता है.

अध्यक्ष यूकिया अमानो का कहना था, "मार्च 2011 में हुई फुकूशीमा दाईची दुर्घटना परमाणु सुरक्षा के मुद्दे पर पूरी दुनिया की आँखें खोलने वाली थी.

लेकिन इसका अच्छा पहलू ये है कि इस दुर्घटना के बाद पूरी दुनिया में परमाणु सुरक्षा के उपायों में तेज़ी और मज़बूती आई है.

वर्ष 2011 में हुए सम्मेलन में परमाणु सुरक्षा की जिस कार्ययोजना पर सहमति बनी थी उस पर अब अमल किया जा रहा है.

एजेंसी के सदस्य देशों की इच्छानुसार परमाणु सुरक्षा को और मज़बूत बनाने के लिए चलाए जा रहे कार्यकलापों में अच्छी प्रगति दर्ज की गई है."

उन्होंने कहा कि ख़ासतौर से ईरान, सीरिया और उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रमों पर एजेंसी ने एक मज़बूत और यथार्थवादी रुख़ अपनाया है.

इसके तहत ये प्रमाणित करने की कोशिश की जा रही है कि ये देश परमाणु हथियार नहीं बना रहे हैं.

159 से ज़्यादा देश आईएईए के सदस्य हैं और इस सम्मेलन में इन देशों से आए लगभग 2000 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया.

Loading the player ...

कनेक्ट