13/09/2013

हर साल एक अरब टन भोजन की बर्बादी

सुनिए /

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन – एफ़ ए ओ का कहना है कि हर साल दुनिया भर में भोजन बर्बादी से क़रीब 750 अरब डॉलर का नुक़सान होता है.

बुधवार को जारी एक ताज़ा रिपोर्ट में संगठन ने कहा है कि हर वर्ष लगभग एक अरब तीस करोड़ टन भोजन बर्बाद हो जाता है जोकि पूरी दुनिया में तैयार होने वाले भोजन का लगभग एक तिहाई हिस्सा.

खाद्य और कृषि संगठन के महानिदेशक होज़े ग्रैज़ियानो का कहना था, "इतनी बडी मात्रा में भोजन की बर्बादी से खाद्य सुरक्षा और विकास को बहुत बड़ा नुक़सान होता है."

"अगर हम भोजन बर्बादी को कम कर दें या पूरी तरह से रोक दें तो ग़रीबी बिल्कुल दूर हो जाएगी और भोजन उत्पादन पर जो ख़र्च आता है, उसे बचाया जा सकेगा. इससे प्राकृतिक संसाधनों पर पड़ रहा भारी बोझ भी कम होगा."

संयुक्त राष्ट्र की इस एजेंसी का कहना है कि हर दिन दुनिया भर में लगभग 87 करोड़ लोगों को भूखे सोना पड़ता है.

इसलिए तमाम सरकारों, किसानों, खाद्य उत्पादन में लगे उद्योगों और उपभोग्ताओं को खाना बर्बादी रोकने के लिए बिना कोई देरी किए, कमर कसनी होगी.

रिपोर्ट में कहा गया है कि लोगों को खाने-पीने की आदतें बदलनी होंगी ताकि भोजन फेंकने की ज़रूरत ही ना पड़े.

इसके साथ ही भोजन को एक जगह से दूसरी जगह पहुँचाने में कुशल तकनीक का इस्तेमाल करना होगा ताकि इस प्रक्रिया में भोजन बर्बाद ना हो.