8/08/2013

स्तनपान कराने से कारोबार का भी फ़ायदा

सुनिए /

अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन यानी आईएलओ के विशेषज्ञों ने एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा है कि बच्चों को माँ का दूध पिलाना कारोबार और दफ़्तरी माहौल के लिए भी अच्छा है.

आई एल ओ के मातृत्व सुरक्षा और कामकाज व परिवार के बीच सम्बन्धों की विशेषज्ञ लौरा ऐदात्ती ने शोध के नतीजों का ज़िक्र करते हुए कहा कि शिशुओं को माँ का दूध पिलाना बिज़नेस में उत्पादकता पर कोई नकारात्मक असर नहीं डालता.

लौरा ने अमरीका के लॉस एंजल्स शहर में ऊर्जा और जल विभाग का उदाहरण दिया जहाँ काम करने वाली महिलाओं को अपने शिशुओं को स्तनपान कराने के लिए प्रोत्साहित करने वाला एक कार्यक्रम चलाया जा रहा है.

लौरा ऐदत्ती के अनुसार ये कार्यक्रम शुरू किए जाने के बाद देखा गया कि स्वास्थ्य सम्बन्धी बीमा के दावों में 35 प्रतिशत की कमी आई.

इसके अलावा दो तिहाई महिलाएँ बच्चों को जन्म देने के बाद उम्मीद से कही पहले ही काम पर लौट आईं.

ये भी देखा गया कि बच्चों को जन्म देने के बाद के समय में महिला और पुरुषों की दफ़्तरों से ग़ैरहाज़िरी भी 27 प्रतिशत कम रही.

एक ग़ौर करने की बात ये भी सामने आई कि 67 प्रतिशत कर्मचारियों ने कहा कि वे ज़्यादा समय तक इसी कम्पनी के साथ काम करना पसन्द करेंगे.

ध्यान देने की बात है कि शिशुओं को माँ का दूध पिलाने के लिए प्रोत्साहित करने और इसके लिए अनुकूल माहौल बनाने के लिए एक से सात अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया गया है.

इस दौरान ये दिखाने की कोशिश की गई है कि शिशुओं को माँ का दूध पिलाने से ना सिर्फ़ माँ और बच्चे बल्कि कारोबार और पूरे समाज को व्यापक फ़ायदा होता है.