19/07/2013

मलाला ने बजाया शिक्षा का बिगुल

सुनिए /

संयुक्त राष्ट्र में मलाला युसुफ़ज़ईक़लम की ताक़त किसी तलवार से ज़्यादा होती है.

ये कहावत है तो बहुत पुरानी लेकिन इसे आज के दौर में एक नए सन्दर्भ में दोहराया है पाकिस्तान की एक किशोरी मलाला युसुफ़ज़ई ने.

मलाला युसुफ़ज़ई वही पाकिस्तानी लड़की है जिस पर पिछले वर्ष अक्तूबर में स्कूल जाते समय हमला किया गया था. आरोप है कि वो हमला तालिबान ने किया था जो कथित तौर पर महिलाओं को आधुनिक शिक्षा दिए जाने के ख़िलाफ़ हैं.

मलाला लड़कियों की शिक्षा की हिमायत करते हुए अभियान भी चला रही थीं.

मलाला को अपने साहस की बदौलत मौक़ा मिला संयुक्त राष्ट्र में सैकड़ों युवाओं को सम्बोधित करने का जहाँ मलाला ने अपनी बात रखते हुए ज़ोरदार हिमायत की – निरक्षरता के ख़िलाफ़ जंग करने की.

मलाला का कहना था कि अतिवादी लोग हालात में बदलाव से घबराते हैं. वो इससे डरते हैं कि अगर बदलाव हुआ तो समाज में समानता क़ायम होगी जो वो नहीं देखना चाहते.

संयुक्त राष्ट्र के मंच से बोलते हुए मलाला युसुफ़ज़ई ने विश्व नेताओं से कहा, "हम विश्व नेताओं का आहवान करते हैं कि वो अपनी तमाम नीतियाँ इस तरह से बनाएँ जो शान्ति और ख़ुशहाली की तरफ़दारी करें."

"हम विश्व नेताओं का आहवान करते हैं कि शान्ति स्थापना के लिए जो भी समझौते या सन्धियाँ होते हैं उनके तहत महिलाओं और बच्चों के अधिकारों की हिफ़ाज़त अवश्य होनी चाहिए. ऐसा कोई भी समझौता या सन्धि जो महिलाओं के सम्मान और अधिकारों की ख़िलाफ़वर्ज़ी करते हैं, उन्हें स्वीकार नहीं किया जा सकता."

मलाला युसुफ़ज़ई ने ज़ोरदार शब्दों में कहा, "हम तमाम सरकारों का आहवान करते हैं कि वो मुफ़्त और अनिवार्य तौर पर शिक्षा मुहैया कराने का ऐसा इन्तज़ाम करें जिससे कि दुनिया में कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित ना रह पाए."

मलाला युसुफ़ज़ई का कहना था कि वो उन तालिबान से क़तई नफ़रत नहीं करतीं जिन्होंने उनपर गोली चलाई थी जिसमें वो ज़ख़्मी हो गई थीं.

इसके लिए मलाला ने दुनिया के प्रमुख धर्मों और धार्मिक नेताओं के साथ-साथ अपने माता-पिता को शुक्रिया कहा जिनसे उन्होंने सहिष्णुता, धैर्य और संयम का सबक़ सीखा है.

मलाला युसुफ़ज़ई ने सभी का आहवान किया कि निरक्षरता, ग़रीबी और आतंकवाद के ख़िलाफ़ ज़ोरदार अभियान और संघर्ष चलाया जाए.

मलाला ने ज़ोरदार शब्दों में कहा – आइए हम अपनी किताबें और क़लम उठाएँ क्योंकि वही सबसे ताक़तवर हथियार हैं.